शराब छोड़ चुके लोगों का अनोखा ग्रुप एल्कोहोलिक्स एनोनिमस

हेल्थ

तालुका प्रतिनिधी अजय दोनोडे आमगाव मो 9545710663

आमगांव में आनेवाले 27 और 28 जुलाई 2024 को, विजयलक्ष्मी सभागृह में शराब छोड़ चुके पूर्व शराबियों का डे वर्कशॉप और नाइट विजिल का कार्यक्रम किया जा रहा है। इसमें देश भर से आए पूर्व शराबी अपने ही जैसे शराबियों और पूर्व शराबियों से अनुभव साझा कर रहे हैं। दरअसल, अनोखे सेमिनार का आयोजन एक ऐसी संस्था कर रही है, जो विश्व के 180 देशों में 1 लाख समूहों में फैली है,और इस संस्था के मार्फत लगभग 4 मिलियन लोग शराब से दूर रहकर अच्छी जिंदगी जी रहे है। एल्कोहलिक एनोनिमस नाम के ग्रुप से जुड़े पूर्व शराबी शराब छोड़ने के लिए लोगों को प्रेरित करते हैं। अपने ग्रुप से शराब पीने वाले लोगों को जोड़ते हैं। मीटिंग के माध्यम से अनुभव साझा करते हैं।खास है कि शराब छुड़वाने के लिए यहां शराबियों को दवाई या दबाव नहीं डाला जाता है। ए.ए .के अनुसार शराब पीना लत नहीं, बल्कि बीमारी है। इसे अन्य सामान्य बीमारियों की तरह ही माना जाना चाहिए। इस ग्रुप को जॉइन करने के बाद शराबी को शराब के पहले घूंट से दूर रहना होता है। हर एक दिन शराब से दूर रहने का लक्ष्य बनाकर ए.ए. की साप्ताहिक मीटिंग में शामिल होना होता है। वहीं, शराब से बचने के 12 उपाय का पालन करना होता है।इस अनोखे और अनाम ग्रुप का संचालन कोई व्यक्ति विशेष नहीं, बल्कि शराब छोड़ चुके पूर्व शराबी ही समूह बनाकर करते हैं। विश्व के 180 देशों सहित भारत के सभी प्रमुख शहरों और राज्यों में एए के सदस्यों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जिसमें शराब छोड़कर अन्य लोगों को भी नई राह दिखाने की कोशिश इस संस्था के सदस्य कर रहे हैं।शराब छोड़ चुके आमगांव के सदस्य बताते हैं कि किस तरह उन्होंने शराबीयत की बीमारी में अपना सब कुछ बर्बाद कर दिया। शराब पीना छोड़ने के लिए झाड़-फूंक, दवाई और रिहैब सेंटर तक जाकर भी शराब नहीं छोड़ने वाले शराबी इस संस्था से जुड़कर शराब पीना छोड़ रहे हैं।आज ही के दिन शराब से दूरी बनाए हुए एक वर्ष पूर्ण होने पर आमगांव के एक पूर्व शराबी बताते हैं कि उनके दिन की शुरुआत शराब के साथ ही होती थी। शराब नहीं मिलने पर हाथ कांपने लगते थे। घर पर विवाद होता था। रुपए नहीं होने पर भी किसी भी कीमत पर शराब पीना होती थी। एए से जुड़कर वह बीते 1 वर्ष से शराब से दूर है। शराब छोड़ चुके इन सदस्यों का कहना है कि एए का मूल मंत्र यही है कि शराब के पहले घूट से दूर रहना और संस्था के द्वारा दिए हुए साहित्य को पढ़ने के साथ शराब से दूर रहने के 12 उपायों का ईमानदारी से पालन करना। यदि आप भी हैं शराब पीने की बीमारी से परेशान, तो हेल्पलाइन पर करें संपर्क नितेश डी.7020264241, दिनेश बी.9921067771, बाला टी.9923066850.शराब से दूर रहने में मदद करने वाली यह संस्था पूर्ण रूप से आत्म निर्भर है। इसके सदस्य अपनी सभी गतिविधियां स्वयं के खर्च पर संचालित करते हैं। आमगांव में भी पूर्व शराबियों की संस्था शराब से दूर रहने में लोगों की मदद कर रही है। इस संस्था से जुड़ने के लिए सदस्योसे संपर्क किया जा सकता है। संस्था की मीटिंग आमगांव क्षेत्र में सप्ताह में छह दिन नियमित रूप से आयोजित की जाती है ।इस संस्था से जुड़े हुए सदस्य की पहचान की गोपनीयता हमेशा रखी जाती है।

CLICK TO SHARE