2018 का एग्जिट पोल दावा निकला फेल,राजस्थान में किसकी बनेगी सरकार?

सोशल

प्रतिनिधी:अब्दुल रहमान राजस्थान

राजस्थान में किसकी सरकार बनेगी, इसके बारे में जानने के लिए हर कोई उत्सुक है। यहां पर कुल 200 सीटें हैं, जिनमें 199 विधानसभा सीटों पर 25 नवंबर को मतदान हुआ। श्रीगंगानगर की करणपुर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी और मौजूदा विधायक गुरमीत सिंह कूनर के मौत के कारण इस क्षेत्र में चुनाव स्थगित कर दिया गया था। राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर एग्जिट पोल आज शाम 5.30 बजे से आना शुरू होंगे। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि प्रदेश में नई सरकार किसकी बनेगी। हालांकि पिछले दो चुनावों के दौरान आए एग्जिट पोल पर नजर डालें तो आंकलन गलत निकला था।**आइए जानें 2018 और 2013 के चुनाव बाद आए एग्जिट पोल कितने सही साबित हुए थे 2018 का एग्जिट पोल…दावा निकला फेल जब राजस्थान में 2018 में विधानसभा चुनाव आए थे तो उस समय जो एग्जिट पोल सामने आए थे, उनके दावे फेल निकले थे। आज तक एक्सिस माय इंडिया ने एग्जिट पोल में भाजपा को 102 से 120 सीटें दी थीं, तो वहीं कांग्रेस को 104 से 122 सीटें दी थीं। 4 से 11 सीटें अन्य को दी थीं।वहीं टाइम्स नाउ सीएनएक्स के एग्जिट पोल का जिक्र करें तो उन्होंने 126 पर भाजपा, 89 पर कांग्रेस और 15 सीटों पर अन्य की जीत का दावा रखा था। इसके अलावा एबीपी सीएसडीएस ने 94 सीटों पर भाजपा का कब्जा माना था, जबकि 126 पर कांग्रेस की जीत का अनुमान लगाया था। हालांकि जब नतीजे आए तो आंकड़े गलत साबित हो गए। हुआ ऐसा कि कांग्रेस ने 2018 चुनावों में 100 सीटें जीतकर सरकार बनाई थी, जबकि भाजपा 73 सीटें ही जीत सकी थी। बाकी 27 सीटों पर अन्य उम्मीदवारों ने कब्जा जमाया था। 2013 के एग्जिट पोल भी निकले थे फेल इससे पहले 2013 के चुनाव बाद आए एग्जिट पोल ने राजस्थान में भाजपा की सरकार बनाई,लेकिन, जब परिणाम आया तो एग्जिट पोल के आंकड़े बहुत पीछे पड़ गए थे। एनडब्ल्यूएस सीवोटर ने दावा किया था कि बीजेपी 130 सीटों पर कब्जा करते हुए सरकार बना सकती है। वहीं कांग्रेस के खाते में 48 अन्य को 21 सीटों तक रुकता दिखाया गया था। इंडिया टीवी सीवोटर ने 118 सीट पर भाजपा, 64 पर कांग्रेस और 19 सीटों पर अन्य की जीत का दावा किया। लेकिन, जब रिजल्ट सामने आया तो भाजपा ने 163 सीटों पर कब्जा करते हुए एग्जिट पोल को गलत साबिक कर दिया था। वहीं कांग्रेस सिर्फ 21 सीटें ही निकाल पाई थी।क्या होता है एग्जिट पोल?अब आपके मन में सवाल होगा कि एग्जिट पोल होता क्या है और कैसे तय किया जाता है कि किसकी सरकार बनने जा रही है। तो एग्जिट पोल चुनावी सर्वे होता है, जो उस दौरान किया जाता है जब वोटर्स मतदान केंद्र से वोट देने के बाद बाहर आते हैं। फिर उन लोगों से सर्वे करवाने वाली एजेंसी के लोग ये पूछते हैं कि किसको वोट दिया है और उनके क्या मुद्दे हैं। सर्वे कंपनियों के कुछ सवाल होते हैं, जिनके जवाब के जरिए ये जानने की कोशिश की जाती है इस बार जनता किसकी ओर रुख कर रही है और किस पार्टी को ज्यादा वोट मिल रहा है।

CLICK TO SHARE