हो जाएं सावधान नहीं तो इन वस्तुओं को बेचने पर सात साल तक की सजा हो सकती है

लेख (Article)

जालंधर :

प्रदूषण इन दिनों बढ़ रहा है जिससे काफी परेशानी हो रही है और इसी को देखते हुए केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है और सिंगल यूज प्लास्टिक को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है और जो कोई भी इसे बनाता या बेचता है उसे सात तक का सामना करना पड़ सकता है। 1 जुलाई से भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल करने पर सात साल की जेल और एक लाख रुपये तक के जुर्माना हो जाएगा। सरकार अब कोई रियायत नहीं देने वाली है। सरकार के इस फैसले से पैकेज्ड जूस, सॉफ्ट ड्रिंक Straws और डेयरी उत्पाद बनाने और बेचने वाली कंपनियों को बड़ा झटका लगा है। इसलिए अमूल, मदर डेयरी और डाबर जैसी कंपनियों ने सरकार से अपने फैसले को कुछ समय के लिए टालने का अनुरोध किया था।

 

प्लास्टिक के साथ ईयरबड्स, गुब्बारों के लिए प्लास्टिक की छड़ें, प्लास्टिक के झंडे, कैंडी के स्टिकर ,आइसक्रीम के स्टिकर, पॉलीस्टाइनिन (थर्मोकोल) प्लेट, कप, गिलास, कांटे, चम्मच आदि के उपयोग पर प्रतिबंध रहेगा। उपयोग के बाद इस प्रकार के प्लास्टिक को रिसाइकिल नहीं किया जा सकता है। ज्यादातर सिंगल यूज प्लास्टिक को जला दिया जाता है या जमीन के

नीचे दफन कर दिया जाता है जो की हमारे आने वाली नस्लों और वातावरण के लिए ख़तरनाक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.