भारत जोड़ो यात्रियों के कदमताल देख, सत्ताधारी पार्टी परेशान?

अन्य

प्रतिनिधि: अब्दुल रहमान (राजस्थान)जयपुर

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के वर्तमान हालात को देखते हुए भारत के दक्षिणी राज्य केरला से,, भारत जोड़ो यात्रा,, की शुरुआत तिरंगा हाथ में थाम कर इतिहास रच डाला। लोगों का मानना है कि भारत जोड़ो यात्रा आज के हालात पर सच्चाई से रूबरू करवाने और बढ़ती हुई देश में नफरत , अमीर और गरीब की खाई को मिटाने के लिए एक अहम कदम माना जा सकता है। भारत जोड़ो यात्रा को लगातार मिल रहे समर्थन से सत्ताधारी पार्टी परेशान दिखाई दे रही है। इस बात का अंदाजा सत्ताधारी पार्टी के द्वारा किए जा रहे भारत जोड़ो यात्रियों पर कटाक्ष के तौर पर छोड़े जा रहे शब्द बाणों से लगाया जा सकता है। सत्ताधारी पार्टी ने कभी राहुल गांधी के पहनावे को लेकर तो महिला मंत्री ने यात्रा की शुरुआत पर विवेकानंद की प्रतिमा के दर्शन ना करने जैसे आरोप लगाकर अपनी घबराहट का परिचय देते हुए दिखाई दिए। भारत जोड़ो यात्रा में महिला यात्री के रूप में यात्रा के शुरू से ही शामिल रही रूबी खान लगातार अपने कदमताल करते हुई तिरंगे के साथ लगातार आगे बढ़ती ही जा रही है। जिन्हें राजस्थान की पहली महिला भारत जोड़ो यात्री का गौरव प्राप्त है । यात्रा के दौरान रूबी खान के पैर फिसल जाने से शरीर में छोटे भी आई थी, जिन्हें अस्पताल में भर्ती भी करवाया गया। सही मायने में कहा जाए तो रूबी खान एक ऐसी बहादुर महिला है जिसने अपनी शारीरिक पीड़ा की परवाह किए बगैर फिर से भारत जोड़ो यात्रा शुरू कर दी और कई राज्य पार करते हुए लगातार आगे बढ़ती रही, यहां तक की भारत जोड़ो यात्रा में 90 वर्षीय वृद्धा भी इस यात्रा में शामिल होकर भारत जोड़ो यात्रा के गवाह बनी। इस यात्रा को देख सत्ताधारी पार्टी की नींद खराब हो गई और जैसा कि लोग बता रहे हैं की लगातार यात्रा पर सवाल उठाते जा रहे हैं। सब जानकारी के अनुसार भारत जोड़ो यात्रा आज जम्मू के नगरोटा से आगे पहुंच चुकी है। भारत जोड़ो यात्री लगातार कदम ताल ठोकते हुए आगे बढ़ते ही जा रहे हैं। यात्रा के दौरान कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने यात्रा के दौरान देश के जवानों से भी हाथ मिलाकर अभिवादन स्वीकार किया और उन्हें हिम्मत और हौसला देकर देश का गौरव बढ़ाते हुए निरंतर आगे बढ़ते हुए 26 जनवरी को तिरंगा फहराएंगे। याद रहे आजाद भारत के इतिहास में पहले नेता है राहुल गांधी जिन्होंने सबसे लंबी पैदल यात्रा कर इतिहास रच दिया और जनता के दिलों को मोहब्बत में तब्दील कर देश में अमन वह भाईचारे के साथ रहने का सबसे बड़ा पैगाम देकर मानवता से परिचित करवाने का काम कर दिखाया। इस यात्रा के दौरान मिले जनता के अपार समर्थन को सत्ताधारी पार्टी पचा नहीं पा रही है, जिसके चलते हुए बौखलाहट कई बार पार्टी विशेष के नेताओं की जबान पर देखने को मिलती है। यात्रा में सबसे आगे झण्डा टुकड़ी चलती हैं जिसके हाथ में तिरंगा होता है उसके ठीक पीछे कनव्यो होता है और इसके ठीक पीछे राहुल गांधी चल रहे होते हैं।जो जनता से मोहब्बत के साथ रहने वाली इबारत लिखते देखें गए।